Posted on

समय जाता जा रहा, दिन गुजरता जा रहा
दिन-रात हमें यह नताती, समय जाता जा रहा
ये लोग है कुछ करते नहीं, सुनते नहीं इस संसार की
ये लोग है कुछ करते नहीं, पक्षी भी जीने का तर्क
पेड भी दे रहे, इस संसार को उपकरण
सूर्य हमें यह बताता, कर ले कुछ कर्म
अभी भी कुछ नही गया है
उठ जा कर ले कुछ कर्म

कुछ शिक्षा इस चीटी से ले
जो कर रही परिश्रम
इस मूल्य समय को बचा ले जो तेरे हाथ में
अब अपना तथा बड़ा और छू ले आसमा
कर ले कुछ मेहनत सफलता तेरे कदम छुएगी
बस तू आगे तो बड़, समय जाता जा रहा
कर ले कुछ जिन्तन, समय जाता जा रहा
दिन गुजरता जा रहा।